अखिल भारतीय किसान संघर्ष समन्वय समिति के बैनर तले न्यूनतम समर्थन मूल्य की गारंटी के लिए किसानों ने किया प्रदर्शन - state-news.in
ad inner footer ad inner footer ad inner footer ad inner footer ad inner footer

अखिल भारतीय किसान संघर्ष समन्वय समिति के बैनर तले न्यूनतम समर्थन मूल्य की गारंटी के लिए किसानों ने किया प्रदर्शन

 


अखिल भारतीय किसान संघर्ष समन्वय समिति के देशव्यापी आह्वान पर न्यूनतम समर्थन मूल्य अधिकार दिवस के रूप में 14 अक्टूबर को  छत्तीसगढ़ किसान मजदूर महासंघ के कार्यकर्ताओं ने कृषि उपज मंडी समिति नवापारा में न्यूनतम समर्थन मूल्य गारंटी कानून लागू करो की मांग को लेकर नारेबाजी कर प्रदर्शन किया। अखिल भारतीय क्रांतिकारी किसान सभा के राज्य सचिव एवं छत्तीसगढ़ किसान मजदूर महासंघ के संचालक मंडल सदस्य तेजराम विद्रोही ने जानकारी देते हुए कहा कि केंद्र सरकार ने कृषि सुधार के नाम पर तीन कानून लाया है। जिसमे कहा था जा रहा है कि किसान अपने उपज को राज्य के भीतर या राज्य के बाहर कही भी अपने मनचाहे दाम पर बेच सकता है,  मौजूदा बिचौलियों से किसानों को मुक्त किया गया है। ये कानून कारपोरेट परस्त, किसान, कृषि व उपभोक्ता विरोधी है क्योंकि सरकार न्यूनतम समर्थन मूल्य गारंटी कानून लागू नहीं कर रही है। इसका असर अभी से दिखाई दे रहा है। कृषि उपज मंडियों में माह सितम्बर- अक्टूबर 2019 और माह सितम्बर से 12 अक्टूबर  2020 तक धान खरीदी की तुलना करें तो 2019 की अपेक्षा 2020 में धान की दामो में  न्यूनतम 45 रुपये से अधिकतम 400 रुपये प्रति क्विंटल दाम किसानों को कम मिला है। केंद्र सरकार 50 से 60 रुपये प्रति क्विंटल धान की कीमत में वृद्धि करती है लेकिन कृषि उपज मंडियों में इसे लागू नहीं करने से किसान औने पौने दाम पर व्यापारियों को अपना उपज बेचने को मजबूर होते हैं। इस साल किसानों को पतला धान जैसे सांभा, ओम थ्री, आर बी गोल्ड, श्रीराम जैसे किस्म पर 400 रुपये प्रति क्विंटल नुकसान हुआ है। वही व्यापारियों द्वारा इसी किस्म के चावल बेचने पर चावल का दाम कम नहीं हुआ है जो किसानों के शोषण को दर्शाता है। आवश्यक वस्तुओं के दामों में दिन ब दिन बढ़ोत्तरी हो रही है।  इसलिए केन्द्र सरकार को चाहिए कि कृषि सुधार के नाम पर  वर्तमान में लाये गए तीनों कानूनों को रद्द करते हुए मंडी अधिनियम 1972 के परिपालन को लागू करते हुए मंडी व्यवस्था को मजबूत करे और न्यूनतम समर्थन मूल्य गारंटी कानून लागू करे। 

इस अवसर पर नवापारा क्षेत्र के वरिष्ठ किसान नेता रतिराम साहू, अखिल भारतीय क्रांतिकारी किसान सभा के सह सचिव ललित कुमार, किसान भुगतान संघर्ष समिति के खेमलाल साहू, बिसाहूराम, लुमस साहू, किसान कमलेश साहू सहित क्षेत्र के किसान उपस्थित रहे।

Previous article
Next article

Articles Ads

Articles Ads 1

Articles Ads 2

Advertisement Ads

ad inner footer ad inner footer ad inner footer ad inner footer ad inner footer ad inner footer ad inner footer ad inner footer ad inner footer ad inner footer